कजरारे नैनो वाली अभिनेत्री गौरी खुराना की वापसी

मुझे इस तस्वीर को देख कर याद आने लगा है हिंदी फिल्म ‘किस्मत’ का एक सुपरहिट गीत ‘आंखो में कयामत के काजल, होठों पे गजब की लाली है। बंदा परवर कहिये किसकी तकदीर संवरने वाली है’ इस गीत के रचयिता एस.एच.बिहारी ने जरूर कहीं लाल होठ और कजरारे नैनांे वाली हसीना को देखा होगा तभी तो उन्होंने नौजवान फिल्म दर्षकों का होष उड़ा देने वाला यह गीत रचा होगा। यह तस्वीर है बीते जमाने की भोजपुरी फिल्मों की बेहद चर्चित अभिनेत्री गौरी खुराना की। जिनकी बेहतरीन अदाकारी ने भोजपुरी के जाने कितने निर्माताओं की तकदीर संवार दी होगी इसका कोई हिसाब नही है। आज वही बला की खूबसूरत अभिनेत्री गौरी अपने आवास अंधेरी (प) सुमेरू बिल्डिंग में अपने बीते सुनहरे दिनों की यादों में खोई है। सौभाग्य से फिल्मों के वरिश्ठ पत्रकार अरूण कुमार षास्त्री के माध्यम से मेरी मुलाकात गौरी के आवास पर हो गई। मुझे गौरी को देखते ही उनकी जवानी का हॅंसता हुआ नूरानी चेहरा याद आ गया। भोजपुरी की मदर इंडिया कही जाने वाली सुपरहिट फिल्म ‘धरती मैया’ का एक गीत मेरे जेहन में उतर गया। यह गीत भोजपुरी के पहले सुपरस्टार सदाबहार अभिनेता कुणाल सिंह और गौरी खुराना पर ही फिल्माया गया था। उसे गाया था आवाज के जादूगर कहे जानेवाले पाष्र्वगायक स्व. किषोर कुमार ने। उनके द्वारा गाया यह गीत भोजपुरी फिल्मों के इतिहास में पहली और आखरी गीत बनकर रह गया। ‘जाने कइसन जादू कइलू मंतर देहलू मार हो’ यह गीत तब के सिनेमा दर्षकों पर जादू सा कर दिया था। फिल्म को अपार सफलता मिली। इसके बाद तो गौरी ने अपनी खूबसूरती और लाजवाब अभिनय के दम पर ‘गंगा किनारे मोरा गाॅव’, ‘भैया दूज’ और ‘दुल्हा गंगा पार’ जैसी अनेकों भोजपुरी सुपरहिट फिल्मों के द्वारा भोजपुरी दर्षकों का दिल जीत लिया। गौरी ने बतौर बालकलाकार के रूप में ‘मेरे भैया’, ‘उल्फत’, ‘रिवाज’, ‘थोड़ी सी बेवफाई’ जैसी कई सुपरहिट हिंदी फिल्मों में अभिनय किया। आज उन्होंने अति उत्साह और हौसला के साथ भोजपुरी फिल्मों में चरित्र अभिनेत्री के रूप में अपनी वापसी का इरादा जाहीर किया। भोजपुरी फिल्मों के दर्षक और हम भी उनकी वापसी का बड़ी बेसब्री से इंतजार भी कर रहे है। हजारों लाखों षुभचिंतकों की षुभकामनाएॅ गौरी के साथ है।

Leave a Comment