‘शहंशाह’ ने पहले दिन, पहले शो से ही सफलता का इतिहास रच डाला है: आनंद गहतराज

भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री में निर्देशक आनंद गहतराज का नाम किसी परिचय का मोहताज नहीं है। पूर्व मंे वे ‘कानून हमरा मुट्ठी मंे’, ‘प्रतिघात’, ‘लड़ाई’, ‘कब होई गवना हमार’ और ‘ये मोहब्बतें’ जैसी सफल फिल्मों का निर्देशन कर चुके हैं। इन दिनों वे अपनी नयी फिल्म ‘शहंशाह’ को लेकर बेहद चर्चित हैं, जिसके निर्माता हैं विवेक रस्तोगी। ‘डी वन’ फिल्म्स के बैनर तले निर्मित यह फिल्म हाल ही मंे बिहार मंे प्रदर्शित होकर सफल जा रही है। इस फिल्म में ‘शहंशाह’ के रूप में नायक रवि किशन को दर्शक बहुत पसंद कर रहे हैं और लोगों को फिल्म का गीत-संगीत पक्ष भी काफी आकर्षित कर रहा है। हाल ही में आनंद गहतराज जी से हमारी मुलाकात हुई तो हमने इस फिल्म तथा अनय बातों के बारे में उनसे चर्चा की। तो आइये, पढ़ते हैं कि आखिर क्या कर रहे हैं आनंद गहतराज जी…

 आनंद गहतराज जी, मुबारक हो। आपके द्वारा निर्देशित नयी फिल्म ‘शहंशाह’ बिहार में प्रदर्शित होकर काफी सफल जा रही है।
 जी… ‘शहंशाह’ के मुबारकबाद देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। बेशक यह सच है कि ‘शहंशाह’ ने अपनी रिलीज के पहले दिन, पहे शो से ही सफलता का इतिहास रच दिया है। इस फिल्म में ‘शहंशाह’ यानी टाईटल रोल में रवि किशन जी की भूमिका को काफी पसंद कर रहे हैं। सच पूछिए तो रवि किशन इस भोजपुरी इंडस्ट्री के असल शहंशाह अभिनेता हैं, जो अपने बेहतरीन अभिनय से इंडस्ट्री और दर्शकों के दिलों पर राज कर रहे हैं। जैसा कि आप जानते ही हैं कि ‘डी वन’ फिल्म्स के बैनर तले निर्मित इस फिल्म के निर्माता विवेक रस्तोगी जी हैं। अंजना सिंह, प्रियंका पंडित, रवि शेखर सिन्हा, अवधेश मिश्रा, आनन्द मोहन, सीमा पांडे तथा वरिष्ठ अभिनेता कुणाल सिंह जी। यह एक मर्डर मिस्ट्री, म्यूजिकल फिल्म है। इसे सभी वर्ग के दर्शक पसंद कर रहे हैं, जिसके लिए मैं तमाम दर्शकांे का बहुत आभारी हूं।

 इस फिल्म की हाईलाईट क्या है?
 ‘शहंशाह’ की हाईलाइट इसका नया-अनोखा सब्जेक्ट, कर्णप्रिय गीत-संगीत तथा सभी कलाकारों का उत्कृष्ट अभिनय है। इसमें कुल 9 गीत हैं, जिनके गीतकार-संगीतकार एस. कुमार हैं। इनमें से 2 गीत आइटम सांग हैं जो सीमा सिंह पर फिल्माए गए है। इसका एक गीत हमने बिहार के चर्चित स्वतंत्रता संग्राम सेनानी-वीर कुंअर सिंह को समर्पित करते हुए फिल्माया है। इस गीत के बोल हैं-‘जियऽ हो बिहार के लाला…’ लोगों को यह गीत भी आकर्षित कर रहा है। इस फिल्म की सबसे बड़ी खास बात तो यह भी है कि यह मर्डर मिस्ट्री होते हुए भी पूरी तौर से सामाजिक-पारिवारिक फिल्म है। लोग इसे अपने परिवार के साथ देखना पसंद कर रहे हैं। इसके गीत-संगीत अथवा फिल्मांकन मंे कहीं कोई अश्लीलता नहीं है। यही वजह है कि दर्शक इस फिल्म को बड़े पैमाने पर पसंद कर रहे हैं।

 इन दिनों साउथ की चर्चित फिल्म ‘बाहुबली-2’ चारों तरफ धूम मचा रही है, ऐसे में आपको अपनी फिल्म ‘शहंशाह’ की रिलीज को लेकर कोई खतरा महसूस नहीं हुआ?
 नहीं, बिल्कुल नहीं। दरअसल मेरी फिल्म ‘शहंशाह’ का कथानक और सब्जेक्ट ऐसा है कि मुझे इसके प्रदर्शन को लेकर कोई भी निगेटिव बात मन मंे नहीं थी। मैं दावे के साथ कह सकता हंू कि ‘बाहुबली-2’ देखने वाले दर्शक ‘शहंशाह’ को भी पसंद करेंगे क्योंकि दोनों के सब्जेक्ट अलग-अलग हैं। अरे भई ऐसा तो नहीं है कि जिसने ‘बाहुबली-2’ देख ली वह ‘शहंशाह’ नहीं देखेगा। मेरा मानना है कि ‘बाहुबली-2’ अपनी जगह अच्छी फिल्म है, लेकिन ‘शहंशाह’ भी भोजपुरी सर्कल में बेहतरीन फिल्म है।

 इस फिल्म को आप मुंबई मंे कब प्रदर्शित करेंगे?
 बस! जल्दी ही ‘शहंशाह’ मुंबई आदि जगहों पर प्रदर्शित की जाएगी और इसे मुंबई सहित सभी जगहों पर पसंद की जाएगी।

 आगामी क्या प्लानिंग है आपकी?
 मेरी आगामी फिल्म का नाम ‘इच्छाधारी प्रेम कथा’। अभी इसकी स्क्रिप्ट वगैरह पर काम चल रहा है। जल्द ही इस संबंध मंे आपको विस्तृत जानकारी दूंगा।

Leave a Comment