सर्व भाषा साहित्य उत्सव का सफल आयोजन

नई दिल्ली। भाषा, साहित्य, कला और संस्कृति पर काम करने वाली संस्था ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा ‘सर्व भाषा साहित्य उत्सव’ का भव्य आयोजन गांधी शांति प्रतिष्ठान में किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वयोवृद्ध स्वतंत्रता संग्राम सेनानी मेहता ओ. पी. मोहन और नेशनल लाॅ यूनिवर्सिटी के वरिष्ठ प्रोफेसर डाॅ. प्रसन्नांशु थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता न्यास के अध्यक्ष व वरिष्ठ साहित्यकार डाॅ. अशोक लव ने की। मेहता ओ. पी. मोहन ने सर्व भाषा ट्रस्ट की नीतियों की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि जिस प्रकार भारतीय संस्कृति वसुधैव कुटुंबकम् की अवधारणा पर सबको जोड़ना सिखाती है, उसी प्रकार ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ द्वारा भी सबको जोड़ा ही जा रहा है।
  बताते चलें कि ‘सर्व भाषा साहित्य उत्सव’ तीन सत्र में विभाजित था। प्रथम सत्र में प्रसिद्ध चित्रकार असगर अली की संस्था कलाभूमि द्वारा चित्र प्रदर्शनी आयोजित की गई थी तथा द्वितीय सत्र में न्यास की त्रैमासिक ई-पत्रिका ‘सर्व भाषा’ के प्रवेशांक का लोकार्पण किया गया। उक्त अवसर पर संपादक केशव मोहन पाण्डेय ने बताया कि पत्रिका के इस पहले अंक में ही 75 रचनाकारों की कुल सत्रह भाषाओं में रचनाएँ प्रकाशित हैं। उन्होंने आने वाले अंकों में और अधिक भाषाओं की सहभागिता की बात कही। ‘सर्व भाषा ट्रस्ट’ के अध्यक्ष डाॅ. अशोक लव ने ट्रस्ट के उद्देश्यों और गतिविधियों की बृहद् जानकारी देते हुए नेक काम में सबको जुड़ने की बात कही।
पत्रिका के लोकार्पण के उपरांत डाॅ. राजीव कुमार पाण्डेय के हाइकु संग्रह ‘मन की पाँखें’ व लज्जाराम राघव ‘तरूण’ की दो पुस्तकें ‘आँखिन देखी लघुकथाएँ’ व ‘रूको तो सही एक बार’ का लोकार्पण किया गया। लोकार्पण के उसी क्रम में डाॅ. अशोक लव की चार बाल-साहित्य की पुस्तकों का लोकार्पण किया गया। इसके उपरांत अतिथियों को सम्मानित किया गया। मेहता ओ पी मोहन को ‘राष्ट्र रत्न सम्मान’ से अलंकृत किया गया, वही शिाक्षाविद् डाॅ. प्रसन्नांशु, फिल्म एक्सपर्ट उदयवीर सिंह सेनापति, वरिष्ठ पत्रकार अशोक चतुर्वेदी, श्री प्रदीप गुलाटी, जनाब फरहान परवेज़ व श्री प्रफुल्ल गोयल को ‘सर्व भाषा सम्मान’ से सम्माानित किया गया।
कार्यक्रम के अगले क्रम में ‘मीडिया, भाषा और साहित्य’ विषय पर परिचर्चा आयोजित थी, जिसकी प्रस्तावना में डाॅ. प्रसन्नांशु ने बड़ी ही गहराई और तार्कित ढंग से मीडिया, भाषा और साहित्य के अन्तःसंबंधों को बताया। फिल्म व मीडिया एक्सपर्ट उदयवीर सिंह ‘सेनापति’ ने मीडिया के लिए भाषा और साहित्य की नितांत आवश्यकता बताया। जयपुर से पधारे वयोवृद्ध पत्रकार श्री अशोक चतुर्वेदी ने भाषा के विकास के साथ ही संवर्धन और साहित्य लेखन के साथ पठन पर जोर दिया। साथ ही उन्होंने सर्व भाषा ट्रस्ट के उद्देश्य और इसकी कल्पना पर अपनी प्रसन्नता व्यक्त की। वक्ताओं के क्रम में  श्री प्रदीप गुलाटी ने सर्व भाषा संवर्धन की सोच को एक प्रेरणाप्रद सोच बताते हुए इसके उद्देश्यों को पूरा करने के लिए हर संभव सहयोग देने की बात कही।
परिचर्चा सत्र के अंत में सर्व भाषा ट्रस्ट के अध्यक्ष डाॅ. अशोक लव ने कहा कि सर्व भाषा का उद्देश्य जोड़ना है। हमारा प्रयास है कि हर एक व्यक्ति को हम जोड़ें और सर्व भाषा, साहित्य, संस्कृति और कला के विकास के लिए काम करें। यह हमारा पहला प्रयास है।
‘सर्व भाषा साहित्य उत्सव’ का तीसरा सत्र ‘सर्व भाषा काव्य गोष्ठी’ था, जिसकी अध्यक्षता लोकप्रिय ग़ज़लगो श्री अजय अज्ञात जी ने की तथा जिसमें राजभाषा के पूर्व उपनिदेशक डाॅ. सरोज कुमार त्रिपाठी, डोगरी साहित्यकार श्री यशपाल निर्मल, जयशंकर प्रसाद द्विवेदी का सानिध्य था। सर्व भाषा काव्य गोष्ठी में सम्मानित कवियों को ‘सर्व भाषा सम्मान’ से सम्मानित किया गया। उक्त कार्यक्रम में श्री यशपाल निर्मल व श्री केवल कुमार केवल जी, नैनीताल से श्रीमती नीलम नवीन नील, जयपुर से पं. दीपक शास्त्री, मोतिहारी से ज़नाब गुलरेज़ शहज़ाद, पटियाला से श्री विकास शर्मा ‘दक्ष’ आदि के अतिरिक्त श्री जयशंकर प्रसाद द्विवेदी, श्री जलज कुमार अनुपम,श्री राजकुमार अनुरागी, लाल बिहारी लाल, श्री राजकुमार श्रेष्ठ (नेपाली), डाॅ. दिग्विजय शर्मा ‘द्रोण’ (ब्रज), वरिश्ठ रचनाकर श्री निलय उपाध्याय (हिंदी), श्रीमती इंदुमती मिश्रा, श्री संदीप तोमर, डाॅ. दुर्गा चरण पाण्डेय, डाॅ. मनोज तिवारी, सत्यप्रकाश भारद्वाज, सुनीता अग्रवाल ‘नेह’, तरुणा पुंडीर, श्री मोहन शास्त्री, श्री सुनील सिन्हा, श्री मनीश झा (मैथिली), श्री कुमार देवेन्द्र (हिंदी), श्री सुरेन्द्र नारायण शर्मा, श्री अजय अक्स, श्रीमती शशि त्यागी आदि को सम्मानित किया गया।
‘सर्व भाषा साहित्य उत्सव’ के प्रथम व द्वितीय सत्र का संचालन श्रीमती रेजीना मुखर्जी ने किया वहीं तृतीय सत्र का संचालन श्रीमती रीतिका शर्मा ने किया। कार्यक्रम के अंत में ट्रस्ट की महासचिव श्रीमती रीता मिश्रा से सभी आगंतुकों के प्रति आभार व्यक्त किया।

Leave a Comment