भोजपुरी का लोक साहित्य अथाह समुद्र है

भोजपुरी का लोक साहित्य अथाह समुद्र है

बोलियाँ अपने ऐतिहासिक विकास क्रम में विकसित होकर भाषा का रूप ले लेती हैं। भोजपुरी अपने इतिहास के इसी मुहाने पर खड़ी है। भोजपुरी का लोक साहित्य अथाह समुद्र है तो भोजपुरी में प्रचुर मात्रा में लिखित साहित्य भी मौजूद है। निर्गुण सन्त कवियों द्वारा कैथी लिपि में लिखित भोजपुरी साहित्य की विशाल सम्पदा मठों और आश्रमों में अपने शोधकत्र्ताओं का इन्तजार कर रही हैं। हीरा डोम से लेकर भिखारी ठाकुर, राहुल सांकृत्यायन, धरीक्षण मिश्र,…

Read More

छात्र-छात्रा खाती मुफ्त वाई-फाई के सुविधा

छात्र-छात्रा खाती मुफ्त वाई-फाई के सुविधा

बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव सोशल मीडिया प बहुत सक्रिय रहेले। बिहार दिवस के मौका प उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव सरकार के ओ फैसला के लोग के जानकारी देले, जेमे कॉलेज में छात्र-छात्रा खाती मुफ्त वाई-फाई के सुविधा देवे के बा। ए तोहफा के लोग तक पहुंचावे खाती तेजस्वी ट्विटर के मदद लेले। तेजस्वी ट्विटर प इंटरनेट उपयोग करे वाला छात्र खाती खुशखबरी बा कह के ट्वीट कईले। बिहार दिवस प राज्य के सब कॉलेज, विश्वविद्यालय…

Read More

जिन्हें नाज है भोजपुरी पर, वो कहाँ हैं….

जिन्हें नाज है भोजपुरी पर, वो कहाँ हैं….

सैद्धांतिक तौर पर कहा जाता है कि जो भाषा रोजगार के अवसर उपलब्ध नहीं करा पाती, उस भाषा का अस्तित्व धीरे-धीरे खत्म होता जाता है। लेकिन यह सिद्धांत भोजपुरी के साथ ठीक-ठीक सामंजस्य नहीं बना पा रहा। सीधे तौर पर देखें तो अभी तक भोजपुरी को संवैधानिक दर्जा भी नहीं मिला है पर इसके बावजूद यह भाषा अपनी उत्पत्ति क्षेत्र की सीमा लांघ कर दुनिया के लगभग 20 देशों में पंख पसार चुकी है। भाषा…

Read More