बिहार और बिहारी

बिहार और बिहारी

कुलदीप श्रीवास्तव यह सन् 2002 की बात है जब बिहार के सीवान जंक्शन से चली ट्रेन ने रोजी-रोटी की तलाश वाले कई लोगों के साथ मुझे भी देश की राजधानी दिल्ली के प्लेटफाॅर्म पर उतारा था। छोटे से शहर से अचानक बड़ी अट्टालिकाओं वाले शहर में आकर ऐसा लगा कि जैसे मैं किसी भूल-भुलैया में आ गया हूं। जब किसी से भोजपुरी प्रभाव वाली हिंदी में कुछ पूछता तो सामने वाले का सबसे पहला वाक्य…

Read More

भोजपुरी विरोध का क्यों?

भोजपुरी विरोध का क्यों?

कुलदीप श्रीवास्तव भाषा का विरोध और वह भी अपने देश की भाषा का विरोध, पारंपरिक, सांस्कृतिक एवं प्राचीन भाषा का विरोध! एक ऐसी भाषा का विरोध जो हर तरह से समृद्ध है और अपने ही देश में अपने उचित मान-सम्मान के लिए संघर्षरत है। जिस भाषा को आधिकारिक दर्जा दिलवाने के लिए लोगों को एकमत होना चाहिए, उसी भाषा का विरोध शर्म की बात नहीं तो और क्या हो सकती है। जी हाँ,आज कल हिंदी…

Read More