“तिरिया चरित्रम्, पुरुषस्य भाग्यम्, दैवो न जानसि”

“तिरिया चरित्रम्, पुरुषस्य भाग्यम्, दैवो न जानसि”

Dhananjay Tiwari@bhojpuripanchayat.in “तिरिया चरित्रम्, पुरुषस्य भाग्यम्, दैवो न जानसि” पंडिताई एगो विशिष्ट ज्ञान ह या ना पर इ एगो मनोविज्ञान जरूर ह, इ सोच पंडित भोला नाथ हमेशा मानेले। काहे से कि उ कवनो गुरुकुल में त पंडिताई के शिक्षा ना लेहले पर पुरखा लोग से मिलल थोड़ा बहुत ज्ञान अउरी एहि मनोविज्ञान के बल पर उ अपना पंडिताई के डंका बजवले बाड़े। बड़ से बड़ मनई उनका लगे आपन भागी बचवावे आवेला अउरी बुरा…

Read More